19 February 2018, 09:18 PM
जयराम शुक्ल
जयराम शुक्ल
twitter   

डिजिटल युग में डिजिटल फ्राड ! कैसी 'नीरव'ता छाई है, ईमानदारी का सर्वर डाउन है

जयराम शुक्ल

Saturday, February 17, 2018

साफ बात तो यह है कि किसी को इस मुगालते में नहीं रहना चाहिए कि संसद में उनकी कही-सुनी बातों

जयराम शुक्ल

Saturday, February 10, 2018

सत्ता का सिंहासन, समाजवाद की सीढ़ी और गांधी-लोहिया की याद

जयराम शुक्ल

Wednesday, February 7, 2018

इस बजट ने मोदी के प्रति यह भरोसा मजबूत करने का कारण दिया है कि वे कृषि को 2022 तक दोगुने म

जयराम शुक्ल

Friday, February 2, 2018

युवा अपने देश की सरकारों से कोई उम्मीद न पालें। राजनीति को लेकर एक पक्का यकीन यह बना है कि

जयराम शुक्ल

Tuesday, January 30, 2018

गणोश शंकर विद्यार्थी जैसे प्रखर सेनानी हुए जो कानपुर के दंगे में मुस्लिम भाइयों की रक्षा क

जयराम शुक्ल

Monday, January 29, 2018

रिपब्लिक इण्डिया के महाजनों को वंचित भारत की जमीनी हकीकत पता है?

जयराम शुक्ल

Saturday, January 27, 2018

यदि हम गणतंत्र की गरिमा की रक्षा में असमर्थ हैं तो फिर राजपथ पर छब्बीस जनवरी का कर्मकाण्ड

जयराम शुक्ल

Thursday, January 25, 2018

श्रीनिवास तिवारी दिल्ली में रहकर राजनीति करने वाले नेताओं को 'अष्टधातु के देउता' कहते थे।

जयराम शुक्ल

Wednesday, January 24, 2018

वसंत पंचमी और हिंदी पत्रकारिता : आज शुरू हुआ था राजनैतिक चेतना से लैस 'भारत भ्राता'

जयराम शुक्ल

Monday, January 22, 2018

हार में क्या, जीत में, किंचित नहीं भयभीत: श्रीनिवास तिवारी की यादें

जयराम शुक्ल

Sunday, January 21, 2018

ये खींचतान यह जरूर बताती है कि न्यायपालिका में भी वही सबकुछ है जो कार्यपालिका और विधायिका

जयराम शुक्ल

Wednesday, January 17, 2018

विग्यान व धर्म आध्यात्म के अलावा अन्य क्षेत्र में भी देखें तो अपने यहाँ उसी को प्रतिष्ठा म

जयराम शुक्ल

Saturday, January 13, 2018

प्रेस की आजादी का सवाल : आम आदमी और मीडिया के बीच फर्क क्या है?

जयराम शुक्ल

Thursday, January 11, 2018

आदिगुरू शंकराचार्य के बाद यदि किसी ने धर्म की रक्षा की तो ये यही थे, संत कबीर और संत रैदास

जयराम शुक्ल

Monday, January 8, 2018

भीमा कोरेगांव से उठे सवाल : किसको कहें मसीहा किस पर यकीं करें

जयराम शुक्ल

Friday, January 5, 2018

कल के लिए कुछ न छोड़ें। जिन्दगी के कल के एजेन्डे को आज ही निपटाएं, आज हीं क्यों... इसी क्षण

जयराम शुक्ल

Monday, January 1, 2018

गाँवों, कस्बों और छोटे शहरों में भी बड़े और रचनात्मक काम हो रहे हैं पर वे चरचाओं में खारिज

जयराम शुक्ल

Sunday, December 31, 2017

छोटी और मझोली जोत के काश्तकार, पाँच से दस एकड़ वाले। यही विपदा के मारे हैं और व्यवस्था की च

जयराम शुक्ल

Friday, December 29, 2017

कहते हैं कि सिंगरौली इलाके से अबतक जितना कोयला निकला है,उससे सौ गुना ज्यादा अभी जमीन में द

जयराम शुक्ल

Sunday, December 24, 2017

घपले-घोटालों और दुरभिसंधियों के पीछे घिनौनी राजनीति होती है जो सचाई तक पहुँचने की बजाय ऐसे

जयराम शुक्ल

Saturday, December 23, 2017

इस पूरे झगडे़ की जड़ लंका के लफंगे हैं। अस्सी के दशक में प्रतिष्ठित पत्रिका. सारिका.. में च

जयराम शुक्ल

Friday, December 22, 2017

कांग्रेस अब मुसलमानों  के साथ वैसे खड़ी नहीं दिखना  चाहती।  उसके कदम भी हिंदुत्व की ओर बढ़

जयराम शुक्ल

Thursday, December 21, 2017

'नीच' शब्द  को मोदी ने जिस तरह दूसरे चरण में हुए चुनाव की बाजी पलटने में भुनाया  उसकी कसक

जयराम शुक्ल

Friday, December 22, 2017

विदेशी आक्रांताओं के हमले आठवीं सदी के बाद से शुरू हुए। हमलावरों नें मंदिर, आश्रम, वैदिक स

जयराम शुक्ल

Sunday, December 17, 2017

जिन्हें इन तीन तिलंगों में युवा तुर्कियत दिखती है वो देखें पर चुनाव के लिहाज से इनकी न्यू

जयराम शुक्ल

Friday, December 15, 2017

चित्रकूट के पहाड़ों के भीतर उम्दा किस्म का बाक्साइट है। भगवान राम की स्मृतियां बची रहें या

जयराम शुक्ल

Wednesday, December 13, 2017

चुनाव वाकई युद्ध में बदल चुके हैं। हम मान लें कि यु्द्ध,प्यार, बाजार और चुनाव में सब जायज

जयराम शुक्ल

Tuesday, December 12, 2017

इजराइल के पास जलप्रबंधन का ग्यान कोई अलग से नहीं आया। हमारे पास यह सदियों से है। पद्मपुराण

जयराम शुक्ल

Monday, December 11, 2017

विकास के आड़े जो भी आएगा, मारा जाएगा , शोकगीत कहां गाएं किसे सुनाएं

जयराम शुक्ल

Saturday, December 9, 2017

शिवराज सिंह चौहान ने लगभग चुनौती देने के अंदाज में कहा था- कोई माई का लाल शिवराज के रहते प

जयराम शुक्ल

Thursday, November 30, 2017

ये अन्न जिन्हें गरीबों का मोटिया अन्न कहा जाता था आज अमीरों की जरूरत बन गए। कम कैलोरी के अ

जयराम शुक्ल

Tuesday, November 28, 2017

मायावती को अब सवर्णों की राजनीति करनी चाहिए। दलित तो उनकी मुठ्ठी खुलते ही राख की तरह झर ग

जयराम शुक्ल

Monday, November 27, 2017

गूगल ट्रेन्ड के मुताबिक पोर्न शब्द की खोज करने 10 शीर्ष देशों में एक भारत भी है । नैतिक श्

जयराम शुक्ल

Monday, November 6, 2017

खेती भी जल्दी ही कारपोरेट सेक्टर में जाने वाली है। मान लो आपके पास एक इंच भी जमीन नहीं, ले

जयराम शुक्ल

Wednesday, November 1, 2017

sky
subscribe